ज्योतिष में ये ग्रह बताते हैं किस महिला को होगा स्तन कैंसर!

447.jpg

लेखक: सोनू शर्मा

व्यस्त जीवन शैली, गलत खान - पान, जागरूकता के आभाव के कारण आज महिलाओं में स्तन कैंसर की संख्या में बढ़ोतरी होती जा रही है । कुछ लोगों का मानना है की कामकाजी महिलाएं बच्चो को स्तनपान करने से परहेज करती है, इसी कारण से भी यह समस्या बढ़ती जा रही है । इससे बचने के लिए हमे जागरूक होना पड़ेगा तथा समय समय पर इसकी जाँच कराते रहना चाहिए ।

  • हमारी कुंडली में ऐसे कुछ योग होते है जो हमे स्तन कैंसर की जानकारी देते है, कुंडली में लग्न भाव बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, यदि लग्न बहुत कमजोर हो तथा उस पर कोई भी शुभ प्रभाव न हो, लग्न में पापी ग्रह बैठे हो, छटे भाव पर क्रूर ग्रहो की दृष्टि हो तथा चन्द्रमा भी शुभ न हो तो

  • महिला को स्तन कैंसर की सम्भावना होती है ।

  • यदि सिंह लग्न की कुंडली में छटे भाव का स्वामी शनि, आठवे भाव के स्वामी गुरु के साथ स्वराशि में यानि छटे भाव में स्थित हो तथा चतुर्थ भाव में सूर्य तथा मंगल की युति हो, राहु बारहवे भाव में स्थित होकर सूर्य मंगल पर अपनी पंचम दृष्टि डाल रहा हो तो महिला को स्तन कैंसर होता है ।

  • राहु बारहवे भाव में कर्क राशि में स्थित हो तथा इसका स्वामी चंद्र बाधक भाव यानि नवम भाव में स्थित हो और बारहवे भाव पर छटे व आठवे भाव का स्वामी पूर्ण दृष्टि डाल रहा हो तो ये अशुभ होता है और ऐसी महिला को स्तन कैंसर होने की सम्भावना होती है ।