कुंडली में वह कौनसे योग है जो व्यक्ति को पत्रकार बनाने में सहायक होते है!

428.jpg

लेखक: सोनू शर्मा

वर्तनाम युग ग्लोबलाइजेशन का युग है, प्रत्येक व्यक्ति जागरूक हो गया है । लोकतांत्रिक युग में पत्रकारिता को एक महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है । इंटरनेट ने आज पत्रकारिता को लोकप्रिय बना दिया है, कुंडली के योगों के माध्यम से जाना जा सकता है की व्यक्ति पत्रकारिता में उच्च मुकाम हासिल करेगा या नहीं ।

पत्रकारिता के लिए कुंडली में बुध का शुभ व बलिष्ठ होना बहुत जरुरी है क्योकि बुध वाणी, वृद्धि, वाक्पटुता, व्यावहारिक विश्लेषक का कारक है । यदि हम देखे तो कुंडली में बुध, शुक्र, चंद्र, गुरु तथा दूसरा भाव वाणी का, चौथा भाव जनता से सम्बन्ध का, तथा दशम भाव जो व्यवसाय भाव में उनका आपस में सम्बन्ध होना चाहिए । इसी प्रकार कुंडली में सरस्वती योग, शारदा योग तथा कलानिधि योग में से कोई योग होना भी आवशयक है । यदि किसी कुंडली में दूसरे भाव में उच्च का बुध स्थित हो तथा चौथे भाव में चन्द्रमा स्थित हो तो व्यक्ति अच्छा पत्रकार बन सकता है ।

इसी प्रकार यदि किसी की कुंडली में तीसरे भाव में गुरु और शुक्र की युति हो तथा बारहवे भाव में केतु स्थित हो तो यह पत्रकारिका के लिए अच्छा योग है क्योकि ऐसे व्यक्तियों का व्यवक्तित्व बहुत ही प्रभावशाली होता है, वह अपनी अलग ही पहचान बनाता है ।

यदि किसी कुंडली में दशम भाव में नीच का बुध हो तथा शनि बारहवे भाव में तथा केतु तीसरे भाव में गुरु के साथ युति करे तो ऐसे व्यक्तियों की सोच समझ कमाल की होती है,वह अच्छे सोर्स वाले होते है तथा उनकी प्रतिभा उन्हें बहुत उच्चा मुकाम देती है ।