जानिए अंकविज्ञान के अनुसार अंक - 8 के व्यक्तियों का व्यक्तित्व एवं लाभ

193.jpg

लेखिका : रजनीशा शर्मा

जानिए अंकविज्ञान के अनुसार अंक - 8 के व्यक्तियों का व्यक्तित्व एवं लाभ

अंक 8 के व्यक्ति वे है जिनका जन्म महीने की 8,17 एवं 26 तिथि को हुआ है |अंक विज्ञान के अनुसार इनमे निम्न गुण होते है -

चारित्रिक विशेषताएं -

अंक 8 का स्वामी शनि गृह है | इस अंक के व्यक्ति 2 प्रकार के होते है एक वे लोग जो शनि की क्रूर दृष्टि में जन्मे है और दूसरे वे लोग जो शनि की कृपा दृष्टि में जन्मे है | 26 जनवरी से 27 फरवरी का समय शनि का क्रूर दृष्टि काल कहा जाता है एवं २१ दिसम्बर से 27 जनवरी का समय कृपा दृष्टि काल |

 इस अंक में जन्मे व्यक्ति अक्सर गलत समझे जाते है | और जीवन में प्रायः अकेला महसूस करते है | ये दृण एवं हठी प्रवत्ति के होते है| ये सुदृण व्यक्तित्व के स्वामी होते है |

 ये धार्मिक एवं भाग्यवादी होते है अपने कार्यो को विरोध के बावजूद भी पूरा करते है | ये उदार ,शांत एवं सच्चे होते है ये दुसरो की भावनाओ का पूरा सम्मान करते है | इसके लिए अपनी इच्छाओ का भी त्याग कर देते है |

अंक 8 के व्यक्ति जीवन में या तो बेहद सफल होते है या बुरी तरह असफल | ये मध्यम जीवन बहुत कम ही जीते है |

ये उच्य पदों पर आसीन होते है और अपने कर्तव्य को निभाने के लिए बलिदान को भी तत्पर हो जाते है | अपने जीवन काल में इन्हे लोग समझ नहीं पाते और ये हृदय में अकेलापन लिए ही संसार से चले जाते है |

महत्वपूर्ण कार्यो को क्रियान्वित करने का शुभ समय -

अंक 8 के व्यक्तियों को अपने कार्य 8 , 17 एवं 26 को ही क्रियान्वित करना चाहिए | इसके अतिरिक्त इनके लिए 21 दिसम्बर से 27 जनवरी को के मध्य का समय शुभ रहता है |

शुभ दिन -इस अंक के व्यक्तियों के लिए शनिवार रविवार एवं सोमवार के दिन अत्यंत लाभकारी होते है |

शुभ रंग :- इन्हे अधिक हलके रंग नहीं पहनने चाहिए . यदि ये हलके रंग पहनते है तो ऐसा लगता है जैसे इनके जीवन में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा .नीला रंग व उसके शेड्स इनके शुभ रंग है |

शुभ रत्न :- नीलमणि , गहरे रंग का नीलम , काला मोती या काला हीरा इन्हे शरीर से स्पर्श करता हुआ पहनना चाहिए |