पुत्रदा एकादशी -संतान प्राप्ति का अचूक उपाय !

398.jpg

लेखिका : रजनीशा शर्मा

हिन्दू धर्म में कई तरह के  व्रत और पूजा का प्रावधान है | विशेष इच्छा पूर्ति के लिए विशेष देव की विशेष पूजा का प्रावधान है | इसी प्रकार 3 अगस्त की पुत्रदा एकादशी है | पुत्रदा एकादशी को   निःसंतान दम्पत्तियो  के लिए वरदान समझा जाता है और जिनकी संतान है वे अपनी संतान की समृद्धि और उन्नति के लिए यह व्रत कर सकते है | पुत्रदा एकादशी भगवान विष्णु की व्रत विधि है | भगवान विष्णु गृहस्थ जीवन का पालने करने वालो के मुख्य देवता है | भगवान विष्णु जहाँ पालक देवता है वहीं उनकी पत्नी माँ लक्ष्मी धन की देवी है | भगवान विष्णु की पूजा से धन- वैभव और सुख संम्पत्ति की प्राप्ति होती है | गृहस्थ जीवन का पालन करने वाले मनुष्यो को शुक्ल पक्ष की एकादशी का व्रत करना चाहिए | शुक्ल पक्ष की हर एकादशी का व्रत गृहस्थ रख सकते है |  पुत्रदा एकादशी सावन मास और पौष मास में शुक्ल पक्ष में एकादशी को मनाई जाती है |

पूजा विधि -

* एकादशी के व्रत के लिए एक दिन पहले से ही सात्विक  नियमो का पालना शुरू कर देना चाहिए | भोजन में लहसुन और प्याज का सेवन ना करे |

* एकादशी के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठ कर शौच आदि नित्य कर्म से निवृत होकर स्नान करे |

* पुष्प , दीप , धुप आदि सामग्री से भगवान विष्णु के सहस्र नामो का जाप कर पूजन करे  और मन में भगवान विष्णु से अपनी कामना कहे |

* इस व्रत में 24 घंटे के उपवास का प्रावधान है किन्तु यदि सम्भव ना हो पाए तो फल और दूध का सेवन एक समय सूर्यास्त से पूर्व कर सकते है |

* अगले दिन व्रत खोलने पर चावल ,लहसुन और प्याज का सेवन ना करे |

* रात्रि में मंदिर जाकर भगवान का दर्शन, पूजन अवश्य करे |

* व्रत के समय किसी भी अनैतिक कार्य से बचे ,ना झूठ बोले और ना किसी को अपशब्द कहे |

* व्रत में दिन में  सोना भी नहीं चाहिए |

Contact us +91 8449920558
contact@starzspeak.com

Get updated with us