क्या आपकी कुंडली में हैं ये योग जो छप्पर फाड़ के पैसा देते हैं ?

377.jpg

लेखक: सोनू शर्मा

किसी जातक की कुंडली में लग्नेश या भाग्येश का आपस में सम्बन्ध बने तो कुछ ऐसे योग बनते है जो व्यक्ति को धनवान बनाते है, ऐसा पूर्व कर्मो के अनुसार होता है । बहुत कम मेहनत करने पर भी व्यक्ति बहुत अधिक पैसा कमा लेता है तथा कभी कभी बिना मेहनत किए उससे विरासत में पूर्वजो की सम्पति प्राप्त हो जाती है, जानते है वह कौन से योग है –

लक्ष्मी योग - यदि कुंडली में लग्नेश तथा नवमेश केंद्र या त्रिकोण में बलिष्ट हो तथा अपनी स्वराशि में हो या उच्च राशि में स्थित हो या इनका राशि परिवर्तन हो तो ऐसा व्यक्ति नैतिक, धनी, सुन्दर तथा प्रतिष्ठावान होता है ।

गजकेसरी योग - जब भी कुंडली में चन्द्रमा से पहले, चौथे, सातवे या दसवे स्थान में गुरु स्थित हो या केंद्र में गुरु चंद्र की युति हो तो गजकेसरी योग बनता है । ऐसे व्यक्ति को कभी धन की कमी नहीं होती, धन, यश और कीर्ति मिलती है ।

चंद्र, मंगल योग - जब भी कुंडली में चंद्र और मंगल एक साथ स्थित हो तो यह योग बनता है, यदि यह योग द्वितीय या एकादश भाव में बने तो बहुत शुभ होता है और व्यक्ति बहुत धनवान होता है ।

करोड़पति योग - जब जातक का लग्न विषम राशि वाला हो तथा शनि केन्द्रगत हो और गुरु व शुक्र एक दूसरे से केंद्र में हो तो इस योग का निर्माण होता है, ऐसा व्यक्ति करोड़पति होता है ।

दुरुधरा योग - यदि सूर्य के अतिरिक्त चंद्र से द्वितीय तथा बारहवे भाव में ग्रह विद्यमान हो तो दुरुधरा योग बनता है, इसमें व्यक्ति धनवान, भाग्यवान तथा दानी होता है ।