क्या कहता है आपका हस्ताक्षर?

371.jpg

लेखिका : रजनीशा शर्मा

आपके लेखन का तरीका आपके बहुत से राज खोल देता है | आपकी लिखावट से आपके व्यक्तित्व ,स्वभाव और ह्रदय में छुपे आपके गहरे राज को भी आसानी से जाना जा सकता है | आज हम आपके हस्ताक्षर की बात करेंगे -

 

* जो व्यक्ति अपने हस्ताक्षर में सभी शब्दों को एक समान आकार में स्पष्ट लिखता है वह व्यक्ति बहुत ही सुलझा ,सामान्य स्वभाव वाला होता है उसके जीवन में कोई खास राज नहीं होते |

 

*जो व्यक्ति पहला अक्षर बड़ा और बाकि छोटे लिखते है वे व्यक्ति कार्य की शुरूआत तो जोश के साथ करते है किन्तु अंत में बोर होकर उसे बीच में ही छोड़ देते है |

 

*जो व्यक्ति अस्पष्ट हस्ताक्षर करते है वे गहरे राज अपने ह्रदय में छुपाये रहते है वे किसी पर आसानी से विश्वास नहीं करते है और अपनी बाते किसी से नहीं बताते |

 

* जिन व्यक्तियों के हस्ताक्षर नीचे से ऊपर की तरफ जाते हुए होते है वे व्यक्ति अपने जीवन स्तर में लगातार सुधर करते रहते है यह सुधार धीमी गति में भी हो सकता है पर होता जरूर है |कभी कभी तो कुछ भी न करने पर भी उन्हें अन्य लाभ स्रोत प्राप्त हो ही जाते है |

 

*ऊपर से नीचे की तरफ हस्ताक्षर करने वाले व्यक्ति जीवन में निराशा से घिर जाते है ,और अपने नकारात्मक रवैये की वजह से समाज में सम्मान प्राप्त नहीं कर पाते |

 

*जो व्यक्ति अपने पहले अक्षर को घेरे में बंद कर देते है वह व्यक्ति सदा ही सतर्क रहते है और हर परिस्थिति के लिए पहले से तैयार रहने में विश्वास रखते है |

 

* जो व्यक्ति अपने नाम को ही लिखते है सरनेम नहीं लिखते वे व्यक्ति एकाकी जीवन पसंद करते है ,और किसी का भी हस्तक्षेप उन्हें पसंद नहीं |

 

* जो व्यक्ति हस्ताक्षर करते समय डॉट ,डैश जैसे चिन्ह का प्रयोग करते है वे शंकालु प्रवृति के होते है और अंदर से हमेशा डरे हुए रहते है |

 

* जल्दी हस्ताक्षर करने वाले व्यक्ति प्रखर बुद्धि वाले और सदैव जोशीले रहते है ,हर काम को जल्दी और फुर्ती से करते है |

 

* जो व्यक्ति धीरे धीरे हस्ताक्षर करते है वे आलसी और सुस्त होते है |